Latest News
नूंह 09 जनवरी:-मेवात विकास अभिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं उपायुक्त मनीराम शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि मेवात विकास अभिकरण द्वारा छह खंडो को विभिन्न कृषि एवं बागवानी यंत्रों पर अनुदान देने हेतू आवेदन पत्र आमन्त्रित करता है।

नूंह 09 जनवरी:-मेवात विकास अभिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं उपायुक्त मनीराम शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि मेवात विकास अभिकरण द्वारा छह खंडो को विभिन्न कृषि एवं बागवानी यंत्रों पर अनुदान देने हेतू आवेदन पत्र आमन्त्रित करता है। उन्होंने बताया कि इच्छुक किसान निर्धारित प्रोफार्मा में 15 जनवरी 2017 तक पूर्ण दस्तावेज सहित संबंधित मुख्य कार्यकारी अधिकारी मेवात विकास अभिकरण के कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं।

उन्होंने बताया कि रोटावेटर की संख्या 30 है, जिस पर अनुदान राशि 50 प्रतिशत या 30 हजार रुपए जो भी कम हो। इसी प्रकार सीड कम फर्टीलाईजर मशीन की संख्या 20 है, जिस पर अनुदान रााशि कीमत का 50 प्रतिशत या 15 हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा। इसी प्रकार डिस्क हैरो की संख्या 40 है, जिस पर कीमत का 50 प्रतिशत या 15 हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा तथा वैजीटेबल वाशिंग मशीन की संख्या 05 है, जिस पर कीमत का 50 प्रतिशत जो भी कम हो 40 हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा। इसी प्रकार पंजाब रीपर की संख्या 08 है जिस पर कीमत का 50 प्रतिशत जो भी कम हो 30 हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि सैल्फ ओप्रेटिड रोटरी टिल्लर की संख्या 02 है जिस पर कीमत का 50 प्रतिशत जो भी कम हो 40 हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा तथा टैक्टर की संख्या 20 है जिस पर अनुदान राशि 50 हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा। लैजर लैड लेवलर की संख्या 07 है। जिस की कीमत 50 हजार रुपए है। कल्टीवेटर की संख्या 20 है कीमत का 50 प्रतिशत या सात जो भी कम हो तथा इसी प्रकार बिजली चार्जिग या पैट्रोल इंजन से चालित स्प्रे पंप की संख्या 26 कीमत का 50 प्रतिशत जो भी कम हो 40 हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा। उपायुक्त ने बताया कि आवेदक मेवात क्षेत्र का स्थाई निवासी होना चाहिए। आवेदक को शपथ पत्र देना होगा कि वह सरकारी कर्मचारी एवं आयकरदाता नही है व उसने पिछले पांच वर्षो में इस यंत्र पर कृषि विभाग,बागवानी विभाग,एम.डी.ए नूंह से कोई अनुदान नही लिया है। अनुदान राशि की अधिकतम सीमा 50 हजार रुपए है। टैक्टर से चालित यंत्रों,वैजीटेबल वासिंग मशीन लेने हेतू टैक्टर का पंजीकरण आवेदक के नाम होना चाहिए। किसान का किसी भी राष्ट्रीय बैंक में खाता होना चाहिए। क्रम संख्या 1 से 8 तक सभी यंत्रों के लिए पांच हजार रुपए तथा क्रम संख्या 9 पर दर्शाय गए यंत्रों के लिए दो हजार पांच सौ रुपए का बैंक ड्राफ्ट तथा 15 हजार रुपए से कम अनुदान वाली मशीनों के लिए दो हजार 500 रुपए का बैंक ड्राफ्ट ष्टश्वह्र, रूष्ठ्र,हृ॥ के नाम बनाकर आवेदन पत्र के साथ लगाएं। क्रम संख्या दस के लिए डिमांड ड्राफ्ट की आवश्यकता नही है। उन्होने बताया कि शपथ पत्र में दी गई जानकारी गलत पाए जाने पर जमानत राशि जब्त कर ली जाएगी। आवेदक का चयन गठित कमेटी द्वारा किया जाएगा। कृषि एवं बागवानी यंत्रों का 100 प्रतिशत भौतिक निरिक्षण करने उपरांत अनुदान राशि जारी की जाएगी। टैक्टर का पंजीकरण संयुक्त होने की स्थिति में केवल एक ही आवेदन स्वीकार किया जाएगा। भौतिक निरिक्षण के समय टैक्टर की असली आर.सी भौतिक निरिक्षण कमेटी दिखाना अनिवार्य है।